Modi sarkar ne ki chaar sau beesi? मनमोहन की स्कीम पर मोदी ने लगा दी मुहर


Posted on 4th Jan 2017 13:22:03

Hindi navigation  सेक्शन

मनमोहन की स्कीम पर मोदी ने लगा दी मुहर

दिव्या आर्य

संवाददाता, दिल्ली

3 जनवरी 2017

साझा कीजिए

Image copyrightTHINKSTOCK

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक भारत में हर साल क़रीब 1,36,000 औरतों की मौत, बच्चा पैदा करते व़क्त या उसके बाद के डेढ़ महीने में, उसी से जुड़ी किसी 'कॉम्प्लिकेशन' से हो जाती है.

इन्हीं की सेहत को ध्यान में रखते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने 31 दिसंबर को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में गर्भवती औरतों को 6,000 रुपए की मदद दिए जाने का एलान किया.

पर मदद की ये योजना नई नहीं है और साल 2010 में मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली तत्कालीन यूपीए सरकार में 'इंदिरा गांधी मातृत्व सहयोग योजना' के नाम से शुरू की गई थी.

सिर्फ़ 53 ज़िलों से शुरू की गई इस योजना को पूरे देश में लागू करने के लिए साल 2013 में इसे 'नैश्नल फ़ूड सिक्योरिटी ऐक्ट' का हिस्सा बना दिया गया, पर सरकार बदलने के बाद भी आज तक ये काग़ज़ पर ही है.

Image copyrightREUTERS

जानकारी ही नहीं?

सेंटर फार ईक्वेटी स्टडीज़ नाम की शोध संस्था ने साल 2014 में चार राज्यों में इस योजना के लागू किए जाने का विश्लेषण किया और पाया कि इसमें बहुत कमी है.

क़रीब 40 फ़ीसदी औरतों तक इस योजना की जानकारी पहुंची ही नहीं और जिनतक पहुंची उनमें से कई के पास अधूरी या ग़लत जानकारी थी.

रिपोर्ट के मुताबिक, "झारखंड की एक महिला को लगा कि उसे मिलनेवाली धन राशि 1500 रुपए है, तो कई थीं जिन्हें बताया गया था कि बच्चों के पैदा होने के बीच में तीन साल का फ़र्क होना ज़रूरी है."

इस योजना की जानकारी हो भी तो ये सब पर लागू नहीं है. इसका फ़ायदा लेने के लिए कुछ शर्तें रखी गईं. गर्भवती मां की उम्र 19 साल से ज़्यादा होनी चाहिए और योजना पहले दो बच्चों पर ही लागू होगी.

बच्चों की देखभाल के लिए दो साल की छुट्टी

स्तनपान के लिए जयपुर मेट्रो में ख़ास इंतज़ाम

'विकास मॉडलों' के बीच ओडिशा से सबक

Image copyrightREUTERS

योजना की शर्तें

ऐसी शर्तों पर दिए जाने वाली मदद के पीछे सरकार का मक़सद है लोगों का व्यवहार बदलना. मसलन कम बच्चे पैदा करना और 18 साल के बाद ही शादी करना.

नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे-3 के मुताबिक भारत में 58 फ़ीसदी महिलाओं की शादी 18 साल की उम्र से पहले हो जाती है.

लेकिन स्वास्थ्य क्षेत्र में काम करनेवाले लोगों के मुताबिक ये समझना भी ज़रूरी है कि इनमें से कई शर्तों को मानना औरतों के हाथ में नहीं है पर नुक़सान उन्हीं का है.

औरतों के स्वास्थ्य पर काम कर रही संस्था, 'सहयोग', में वरिष्ठ सलाहकार जशोदरा दासगुप्ता कहती हैं, "ग्रामीण और पिछड़े इलाकों में पैदा होने के कुछ ही दिनों में बच्चे की मौत के इतने मामले होते हैं कि दो बच्चे की शर्त रखना व्यावहारिक नहीं है."

वो ये भी ध्यान दिलाती हैं कि बेटे की चाह में कई बच्चे पैदा करने का चलन बदलना भी एक लंबी लड़ाई है, ऐसे में दो बच्चों की शर्त रख जल्दी से बदलाव की उम्मीद करना सही नहीं है.

 

बैंक खाते की ज़रूरत

योजना का लाभ औरत को ही मिले इसके लिए सरकार ने ये पैसे सीधा उसके अपने खाते में डालने का तरीका अपनाया पर ये उतना आसान भी नहीं है.

गुजरात के आदिवासी इलाक़े पंचमहल में औरतों के स्वास्थ्य पर काम कर रही संस्था 'आनंदी' की प्रदीपा दुबे के मुताबिक वहाँ औरतें बैंक खाते नहीं खुलवाती हैं.

बीबीसी से बातचीत में उन्होंने कहा, "ये इतनी पढ़ी-लिखी नहीं हैं ना ही इनको इतनी जानकारी है, फिर गर्भवती औरत को अपना खयाल ख़ुद ही रखना पड़ता है, उसमें बैंक का खाता खुलवाने की कवायद बहुत अखरती है, आंगनवाड़ी की वर्कर भी इस काम के लिए साथ नहीं जातीं."

Image copyrightANUPAM NATH

कितनी है मौजूदा मदद

उत्तर प्रदेश के मुज़फ़्फ़रनगर में गर्भवती महिलाओं के साथ 2008 से काम कर रहीं स्वास्थ्यकर्मी (आशा वर्कर) अंजु त्यागी के मुताबिक उन्होंने केंद्र की इस योजना के बारे में कभी नहीं सुना.

बीबीसी से बातचीत में उन्होंने कहा, "हमारे यहां तो राज्य स्तर पर एक योजना है उसके तहत अस्पताल या क्लीनिक में बच्चा पैदा होने पर मां को 1400 रुपए दिए जाते हैं."

वहीं गुजरात के पंचमहल की प्रदीपा दुबे के मुताबिक वहां ये मदद राशि 5,000 रुपए है.

राज्यों के स्तर पर चलाई जा रही समाज कल्याण से जुड़ी ये अलग-अलग योजनाएं हैं. ज़्यादा विकसित राज्यों में ज़्यादा धन राशि दी जा रही है और ग़रीब या कम विकसित में मदद भी कम है.

Image copyrightAP

आगे क्या होगा?

नेशनल फ़ैमिली हेल्थ सर्वे-3 के मुताबिक शादीशुदा औरतों में आधी से ज़्यादा के शरीर में ख़ून की कमी है. मां बननेवाली ज़्यादातर औरतों की मौत की बड़ी वजह अच्छे खान-पान की कम  

http://www.bbc.com/hindi/india-38490463?ocid=socialflow_facebook 

Recent Posts


Catgories


Archives


FOLLOW US ON....

Copyrights © 2015 Biharbroadcasting.com All rights reserved | Developed by Miracle Valley Software solution